Monday, May 28, 2012

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa ..Runa Laila


Ranjish hee sahee dil hee dukhaane ke liye aa ...
Let it be anguish ,come still to torment my heart
Singer :Runa Laila
Lyricist : Ahmed Faraz a legendary urdu poet..

लीजिये  आज पेशे खिदमत है रूना लैला की दिलकश आवाज़ में एक बहुत ही खूबसूरत गज़ल ! मुझे पूरी उम्मीद है मेरी यह पसंद आपको भी ज़रूर पसंद आयेगी !

साधना वैद