Friday, August 30, 2013

रस्मे उल्फत को निभायें तो निभायें कैसे

आज सुनिये लता मंगेशकर से फिल्म 'दिल की राहें' का यह बेजोड़ गीत ! इस गीत की फरमाइश संगीता अस्थाना जी ने की थी ! उम्मीद है उन्होंने इसे सुन लिया होगा !





Rasm-e-Ulfat Ko Nibhayen Kaise - Lata - Naqsh Layal Puri - Madan Mohan - Dil Ki Rahen 1973

साधना वैद