Thursday, April 18, 2013

Aaj jane ki zid na karo yun hi pehloo mein bethe raho Farida khanum ghazal



फरीदा खानम से सुनिये यह बहुत ही बेहतरीन गज़ल ! हर लफ्ज़ जैसे मन का आइना है !

साधना वैद