Thursday, October 1, 2015

ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa ..runa laila





रूना लैला की बेमिसाल आवाज़ में सुनिए अहमद फ़राज़ की यह बेेमिसाल ग़ज़ल ! मुझे बेहद पसंद है और जानती हूँ की आपको भी ज़रूर पसंद आयेगी !



साधना वैद